GM Diet(General Motors)जी एम डाइट

दोस्तों जैसा कि आप सब जानते हैं कि आजकल की भागती दौड़ती ज़िन्दगी में अपने शरीर को स्वस्थ बनाये रखकर ही हम सफलता की रेस में आगे बढ़ सकते हैं बदले हुए खानपान और आदतों ने हमे कई प्रकार की समस्याओं मे डाला है जिनमें से मोटापा सबसे बड़ी और आमतौर पर  जाने वाली समस्या के रूप में उभरा है  मोटापे की समस्या और भी कई बीमारियों को जन्म देने का कारण बनती है जैसेडायबिटीज , ऑस्टियोपोरोसिस तथा हृदय सम्बंधी बीमारियाँ  

वजन कम करने के लिए कई प्रकार के तरीको में से GM Diet(General Motors) एक प्रसिद्ध तरीका है जिसके बारे में मैं आज अपना अनुभव शेयर करने जा रही हूँ

पहला दिन:

क्यूंकि इस डाइट की शुरुआत का पहला दिन फलों का होता है इसलिए आप कोई भी ऐसे फल चुन सकती हैं जो उस मौसम में आसानी से मिल जाये जैसे कि गर्मियों में तरबूज, पपीता, चेरी, खरबूजा, आदि और सर्दियों के मौसम में सेब, अमरुद, संतरा। लेकिन केला, आम, लीची जैसे फलों का प्रयोग करने से बचें । जब भी आपको भूख महसूस हो फल खाएं और साथ ही फलों की मात्रा का ध्यान रखें। पानी 3 से 5 लीटर पीने की कोशिश करें। मैंने रात के समय 30 मिनट की सैर को भी अपनी दिनचर्या में शामिल किया।

दूसरा दिन:

यह दिन पूरी तरह सब्ज़ियो का दिन है इसलिए कुछ लोगों को परेशानी हो सकती है लेकिन अपनी पसंद की सब्ज़ियों जैसे खीरा, टमाटर, मूली, गाजर का सलाद बनाकर इस्तेमाल किया जा सकता है।

तीसरा दिन:

यह दिन थोड़ी राहत ले कर आता है क्यूंकि फलों और सब्ज़ियो दोनों का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस दिन मैंने फलों पर ज्यादा मेहरबानी दिखाई।

चौथा दिन:

डाइट के हिसाब से इस दिन आप 6 केले और 4 गिलास दूध ले सकते हैं लेकिन मेरे diabetic होने की वजह से मैंने केले की जगह सेब का प्रयोग किया। आप चाहे तो banana शेक बनाकर भी पूरे दिन इस्तेमाल कर सकते हैं।

पांचवा दिन :

यह दिन बाकी दिनों की तुलना  में राहत ले कर आयेगा क्यूंकि खाने के विकल्प बढ़ जायेंगे । इस दिन मैंने पहले से तैयार किये गये अंकुरित दाल (moong sprouts )की चाट को भोजन में शामिल किया। आप पनीर टिक्का भी खाने में शामिल कर सकते हैं ।चार दिन के डाइट के बाद ये खाना आपको treat वाली फीलिंग देगा ।

छठा दिन :

ये दिन सूप को भोजन मे जगह देने का दिन है ।आप टमाटर को छोड़ कर किसी भी सब्जी का सूप तैयार कर सकते हैं लेकिन ध्यान रखे सूप में किसी तरह के  घी या तेल का प्रयोग नहीं करना है। अगर आप भूख महसूस करें तो खीरे का सलाद भी खाने में ले सकते हैं ।

सातवाँ दिन:

इस दिन आप ब्राउन राइस , sprouts, जूस जैसी चीज़ें खानेमें ले सकते हैं । आप खुद को पहले से काफी हल्का  और खुश महसूस करेंगे ।

इन सात दिनों में मैंने 3  किलो वजन कम किया था । आपकी मेहनत का फल पाकर आप ख़ुशी से फूली नहीं समायेंगी ।

कुछ ध्यान देने योग्य बातें :

1        यह ध्यान रखे कि ये डाइट सिर्फ आपके शरीर से फालतू पानी की मात्रा को घटता है जिस से आपका शरीर पहले की तुलना में हल्का लगता है |।चर्बी(fat) को हमारा शरीर इतनी कम अवधि में जलाना शुरू नहीं करता ।

2        यह डाइट सिर्फ थोड़े समय के लिए आपका वज़न घटाती है। अगर आप अपने खानपान और व्यायाम का उचित ध्यान नहीं रखेंगे तो घटाया हुआ वज़न वापिस बढ़ना शुरू हो सकता है ।

3        लम्बे समय तक स्वस्थ बने रहने का आसान विकल्प समझना  इस डाइट के लिए सही नहीं होगा । मैं कहना चाहूंगी क इस डाइट का प्रयोग आप केवल तभी करे जब आपको किसी फंक्शन , पार्टी या स्पेशल मौके के लिए जल्दी से कुछ किलो वज़न कम करने की ज़रूरत हो ।

4        अपनी स्वास्थ्य सम्बंधी समस्याओं का ध्यान अवश्य  रखें  और किसी डॉक्टर के परामर्श के बाद ही इस डाइट को फॉलो करें।

5        पानी का भरपूर इस्तेमाल करें साथ ही हल्के व्यायाम को भी डाइट के साथ शामिल करें।

इस डाइट का दोबारा इस्तेमाल कम से कम 15  दिन के अंतर के बाद शुरू करें।

तो सोचना कैसा अगर आप भी किसी खास अवसर के लिए अपना वज़न कुछ किलो घटाना चाहते हैं तो जीएम डाइट को अपनाइए और अपने अनुभव हमसे शेयर कीजिये। अगर आपके कुछ सवाल हैं तो आप कमेंट्स सेक्शन में पूछ सकते हैं।

18 thoughts on “GM Diet(General Motors)जी एम डाइट”

  1. I want to express my respect for your kindness in support of persons who absolutely need help with in this topic. Your very own commitment to passing the solution all over came to be quite important and have in every case enabled men and women much like me to attain their aims. The warm and helpful guidelines implies a great deal to me and still more to my office workers. Thanks a lot; from each one of us.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_bye.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_good.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_negative.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_scratch.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_wacko.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_yahoo.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_cool.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_rose.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_smile.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_whistle3.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_mail.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_cry.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_sad.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_unsure.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_wink.gif 
http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_heart.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_yes.gif