आलू के स्वास्थ्यकारी गुण Health Benefits of Potato

आजकल हम सभी हैल्थी(Healthy) और पोषक(Nutricious) खाने की खोज में कई बार हमारे आसपास आसानी से मिलने वाले फल और सब्जियों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं। भारत के कोने कोने में मिलने वाली ऐसी ही एक सब्जी है आलू(Potato), जिसे अब तक आप केवल वजन बढ़ाने वाला और शुगर(Sugar) बढ़ाने वाली सब्जी ही मानते होंगे। आज मैं आपको आलू के कुछ गुणों के बारे में बताऊंगा जिन्हें जानकर शायद आप भी चौंक जाएँ :

विटामिन सी(Vitamin C) का अच्छा स्रोत

आलू विटामिन सी का एक बहुत अच्छा स्रोत है। एक मध्यम आकार के आलू में विटामिन सी की रोजाना जरूरत का 45% होता है जोकि एक टमाटर(Tomato) की तुलना में 5% अधिक है। अब तक आप भी टमाटर को विटामिन सी का सबसे अच्छा स्रोत मानते आए थे ना !

   विटामिन सी हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता(Immunity) बढ़ाने में मदद करने के साथ साथ चोटों को ठीक करने में मदद करता है। मसूड़ों(Gums) को स्वस्थ रखने का काम करने के साथ शरीर में आयरन(Iron) को अवशोषित करने में भी मदद करता है।

विटामिन बी 6(Vitamin B6) का अच्छा स्रोत

आलू विटामिन बी 6 का भी एक अच्छा स्रोत है। एक मध्यम आकार के आलू से विटामिन बी 6 की 10% जरूरत पूरी होती है।

    विटामिन बी 6 कार्बोहायड्रेट(Carbohydrate) और प्रोटीन(Protein) के मेटाबोलिज्म(Metabolism) में महत्वपूर्ण रोल अदा करता है। विटामिन बी हीमोग्लोबिन(Haemoglobin) को बनाने में भी मदद करता है।

पोटैशियम(Potassium) से भरपूर

आलू पोटैशियम से भरपूर होता है। एक मध्यम आकार के आलू में 620 मिलीग्राम(Miligram) तक पोटैशियम पाया जाता है जोकि रोजाना की जरूरत का लगभग 18% होता है। आलू पोटैशियम से भरपूर 20 फल सब्जियों में से एक है, इसमें एक केले(Banana) से अधिक पोटैशियम पाया जाता है।

      पोटैशियम शरीर में खनिज(Minerals) और तरल(Liquids) का संतुलन बनाने में मदद करता है। यह रक्तदाब(Bood pressure) को भी नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है साथ ही शरीर के ऊत्तकों के संकुचन(Muscle contraction) के लिए भी आवश्यक है।

आयरन(Iron) की मात्रा

आलू में कुछ मात्रा में आयरन भी पाया जाता है जोकि शरीर की आवश्यकता का लगभग 6% होता है।

    सभी जानते हैं कि आयरन शरीर में रक्त के बनने और स्वस्थ रखने के लिए कितना अधिक महत्वपूर्ण है।

फ़ाइबर(Fibre) का अच्छा स्रोत

आलू फ़ाइबर का एक अच्छा स्रोत है किन्तु इसके लिए इसे इसके छिलके के साथ(Unpeeled) पकाना और खाना जरूरी है। 100 ग्राम आलू में लगभग 1.8 ग्राम फ़ाइबर पाया जाता है।

       फ़ाइबर का हमारे शरीर में पाचन(Digestion) में महत्वपूर्ण योगदान होता है। यह हमारे पेट को अधिक समय तक भरा हुआ रखता है जोकि वजन कम(Weight loose) करने में मदद करता है।

अच्छे प्रोटीन(Good Protein) की कम मात्रा

आलू में प्रोटीन की मात्रा 1 से 1.5% तक होती है जोकि बहुत कम है परंतु इसमें उपलब्ध प्रोटीन की क्वालिटी सोयाबीन(Soyabean) और अन्य दालों(Pulses) की तुलना में भी बहुत अच्छी होती है। आलू में जो प्रोटीन पाया जाता है पेटाटिन(Petatin) कहलाता है किन्तु यह कुछ लोगों में एलर्जी(Allergy) का भी कारण होता है।

आलू के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी

  • आलू में फैट(Fat) की मात्रा बिल्कुल भी नहीं होती है, ऐसे में इसको मोटापा(Obesity) बढ़ाने वाला कहना गलत होगा, क्यूंकि जानकारों का कहना है कि मोटापे का कारण कैलोरी(Calorie) की अधिक मात्रा होती है नाकि कोई विशेष भोजन।
  • आलू को शुगर(Sugar) बढ़ाने वाला माना जाता है, पर शुगर की यह मात्रा आलू पकाने के आधार पर कम या ज्यादा हो सकती है। यदि आप आलू को पका कर ठंडा करके खाएं तो इसका ग्लायसेमिक इंडेक्स(Glycemic Index) 25% तक कम हो जाता है। साथ ही विशेषज्ञ यह भी मानते हैं कि डायबिटीज(Diabetes) के मरीजों के शुगर पर कार्बोहायड्रेट(Carbohydrate) की मात्रा का असर उसके प्रकार की तुलना में अधिक होता है।
  • फ्राइड आलू में acrylamides पाया जाता है जोकि कैंसर के रिस्क(Cancer risk) को बढ़ाता है इसलिए फ्रेंच फ्राई(French fry) और चिप्स(Chips) कम खाने चाहिए।

  • उबाले हुए आलू(Boiled potato) को ठंडा करने पर उसमें रसिस्टेंट स्टार्च(Resistant starch) पाया जाता है जोकि कोलोन(Colon) को स्वस्थ(Healthy) रखने में मदद करता है।

आलू में उपस्थित खनिज व विटामिन 

Nutrient
Amount
DRI/DV(%)
विटामिन बी 6 0.54 मिलीग्राम 32
पोटैशियम 925.55 मिलीग्राम 26
कॉपर 0.20 मिलीग्राम 22
विटामिन सी 16.61मिलीग्राम 22
मैगनीज 0.38 मिलीग्राम 19
फास्फोरस 121.10 मिलीग्राम 17
विटामिन बी 3 2.44 मिलीग्राम 15
फ़ाइबर 3.81  ग्राम 15
Pantothenic एसिड 0.65 मिलीग्राम 13

फिर सोचना कैसा आलू को अपने भोजन में शामिल करिए और आलू के गुणकारी फायदों को प्राप्त करिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_bye.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_good.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_negative.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_scratch.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_wacko.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_yahoo.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_cool.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_rose.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_smile.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_whistle3.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_mail.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_cry.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_sad.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_unsure.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_wink.gif 
http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_heart.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_yes.gif