स्वास्थ्यवर्धक और स्वादिष्ट छाछ Healthy and Tasty Buttermilk

कुछ दिन पहले मैं एक मशहूर साउथ इंडियन(South Indian) रैस्टोरैंट(Restaurant) गया था जहां मैंने देखा लगभग सभी लोग छाछ(Buttermilk) जरूर ले रहे थे, ऐसे में मैंने अपना दिमाग चलाना शुरू किया और पाया कि भारत में लगभग हर प्रांत में छाछ का प्रयोग किसी न किसी रूप में जरूर किया जाता है। यह सभी जानते हैं कि भारत में किसी भी चीज का प्रयोग केवल स्वाद के लिए ही नहीं बल्कि किसी न किसी स्वास्थ्य लाभ को ध्यान में रख कर किया जाता है तो घर आकर मैंने शुरू किया इसके बारे में पढ़ना और कुछ लोगों से बातचीत करना और पाये छाछ(Buttermilk) के कुछ अनोखे लाभ जिनको आज आपके साथ शेयर कर रहा हूँ

buttermilk-912760_640

शरीर में पानी की कमी(Dehydration) दूर करता है

sport-1260817_640

छाछ के इस गुण के बारे में लगभग सभी लोग जानते हे हैं कि यह शरीर में पानी की कमी को दूर करता है, यदि लू लग गयी हो या फिर तेज गर्मी में बाहर जाना हो तो छाछ(Buttermilk) से बेहतर कुछ नहीं हो सकता क्यूंकि यह लू लगने से रोकने के साथ ही अगर लू लग जाये तब भी काफी लाभ पहुंचाता है।

एसीडिटी(Acidity) में लाभ

यदि किसी को खाने के बाद एसीडिटी की समस्या हो जाती हो तो उसे अपने खाने के साथ छाछ पीनी शुरू कर देनी चाहिए जोकि एसीडिटी को दूर करने का बहुत कारगर और आयुर्वेदिक(Ayurvedic) तरीका है और लगभग सभी लोगों को लाभ पहुंचाता है।

पाचन(Digestion) दुरुस्त करता है

यदि आपको बदहजमी(Indigestion) रहती है या फिर डकार(Burps) आती रहती हैं तो यह एक रामबाण दवाई है, खाने के बाद थोड़ी छाछ आपको इस परेशानी से हमेशा के लिए निजात दिला सकती है। छाछ पेट में पाचन को सही करने वाले अच्छे बैक्टीरिया(Good Bacteria) को बढ़ाती है जिससे पेट की समस्याओं से आराम मिलता है।

कैल्सियम(Calcium) का अच्छा स्रोत

छाछ कैल्सियम(Calcium) से भरपूर होती है और यदि आप छाछ को अपने भोजन में शामिल करते हैं तो अपने कैल्सियम की जरूरत का एक बड़ा भाग इससे पूरा कर सकते हैं। एक गिलास छाछ पीने से आपको लगभग 350 मिग्रा(Mg) कैल्सियम आसानी से मिल जाता है और यह दूध से सस्ता विकल्प(Option) भी है।

ब्लड प्रैशर(Blood Pressure) और कॉलेस्ट्रोल(Cholestrol) कम करता है

blood-pressure-1006791_640

यदि आप अपने भोजन में छाछ को नियमित रूप से शामिल करते हैं तो यह आपके ब्लड प्रैशर को तो कम करेगा ही साथ ही कॉलेस्ट्रोल(Cholestrol) को भी कम करने में आपकी मदद करेगा। इससे दिल संबंधी कोई बीमारी(Heart Diseases) होने का खतरा भी काफी कम हो जाता है।

जुकाम(Cold) से लेकर कैंसर(Cancer) तक रोकता है

इसके अंदर एंटी बैक्टीरियल(Anti-Bacterial), एंटी वाइरल(Anti-Viral) और एंटी कैंसर(Anti-Cancer) प्रोपर्टी  की भरमार है जिसके कारण यह कई प्रकार के वाइरल इन्फ़ैकशन(Viral Infection) से लेकर बैक्टीरियल इन्फ़ैकशन(Bacterial Infection) से लड़ने में मदद करता है। जुकाम(Cold) से लेकर कैंसर(Cancer) तक को रोकने और उनसे लड़ने में यह मदद कर सकता है।

सनबर्न(Sunburn) ठीक करता है

How-to-Get-Rid-Of-Sunburns

यदि किसी को सनबर्न हो गया हो तो थोड़ी छाछ में एक टमाटर(Tomato) का रस मिलाकर उस स्थान पर हल्का लेप लगाने से आराम मिलता है और साथ ही त्वचा पर बर्न का निशान भी नहीं पड़ता है, छाछ के साथ बनाए गए फ़ेस पैक(Face Pack) त्वचा को ठंडक के साथ कई त्वचा संबंधी परेशानियों में अचूक नुस्खा हैं।

लैक्टोज़ एलर्जी(Lactose Allergy) में उपयोगी

लैक्टोज़ एलर्जी(Lactose Allergy) वाले लोग दूध नहीं पी पाते और उनको कैल्सियम की अपनी जरूरत को पूरा करने के लिए बहुत अधिक परेशानियाँ उठानी पड़ती हैं। देखने में यह आया है कि कुछ लैक्टोज़ एलर्जी से परेशान लोगों को छाछ से कोई परेशानी नहीं होती जिससे उनको अपनी कैल्सियम(Calcium) की जरूरत पूरी करने में आसानी होती है। पर ऐसे लोग इससे पहले डॉक्टर से जरूर पूँछ लें।

विटामिन बी और डी(Vitamin B & D) का अच्छा स्रोत

छाछ में विटामिन बी(Vitamin B) और विटामिन डी(Vitamin D) भी पाया जाता है और इस तरह यह एक सम्पूर्ण भोजन की श्रेणी में भी आ जाता है। अपनी विटामिन सम्बन्धी जरूरतों को पूरा करने के लिए यह एक सस्ता और अच्छा विकल्प साबित हो चुका है।

    अब जब आपको छाछ के इतने सारे गुण पता चल गए हैं तो एक एक गिलास छाछ हो जाये।

Digiprove sealCopyright protected by Digiprove © 2020 Pinki Chauhan

2 thoughts on “स्वास्थ्यवर्धक और स्वादिष्ट छाछ Healthy and Tasty Buttermilk”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_bye.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_good.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_negative.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_scratch.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_wacko.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_yahoo.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_cool.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_rose.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_smile.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_whistle3.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_mail.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_cry.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_sad.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_unsure.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_wink.gif 
http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_heart.gif  http://bsdblog.in/wp-content/plugins/wp-monalisa/icons/wpml_yes.gif