वॉक करें, स्वस्थ रहें ! Walk for Health !

बहुत से लोग कहते हैं उनके पास व्यायाम (Exercise) करने के लिए समय नहीं है या फिर जिम (Gym) तक जाने के लिए समय खराब करना पड़ेगा, या फिर बिना महंगी मशीन (Machines or Equipments) के अपनी हैल्थ (Health) के लिए कुछ करना संभव नहीं है। उनके इन सभी बहानों के लिए केवल एक ही जवाब है – वॉकिंग (Walking) या फिर कहें पैदल चलना।

forest-690248_1280

               वॉकिंग करने के बहुत से फायदे हैं जोकि हमको बिना किसी परेशानी और मुफ्त (Free) मिल जाते हैं। वॉकिंग (Walking) करने के कुछ फायदे इस प्रकार हैं :

  • वॉकिंग करने से ब्लड का सर्कुलेशन (Blood Circulation) ठीक होता है और बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL-Bad Cholesterol) कम होता है और गुड कोलेस्ट्रॉल (HDL-Good Cholesterol)बढ़ता है, साथ ही हाइपरटेंशन (Hypertension) से छुटकारा मिल सकता है।
  • हड्डियों के रोग ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) से पीड़ित लोगों को कम से कम 30 मिनट वॉकिंग करने से फ्रेक्चर (Bone Fracture) होने की संभावना 40 % कम हो जाती है।
  • 50-60 वर्ष के लोग यदि 30 मिनट वॉकिंग रोज करें तो उनको उम्र से संबंधी बीमारियों के होने का खतरा कम होता है जिससे उम्र बढ़ती है।
  • वॉकिंग करने से वजन (Weight) भी कम किया जा सकता है।
  • वॉकिंग करने से पैरों और कमर की माशपेशियाँ (Muscles) मजबूत होती हैं।
  • रोज सुबह कम से कम 1 घंटे वॉकिंग करने से नींद ना आने (Insomnia) की समस्या कम होती है।
  • वॉकिंग करने से उम्रदराज लोगों में मैमोरी लॉस (Memory Loss)और अल्ज़ाइमर (Alzheimer) होने का खतरा कम होता है।
  • रोज वॉकिंग करने से आप कई बीमारियों का खतरा कम कर सकते हैं, जैसे – डायबिटीज (Diabetes) होने का खतरा 60 % तक कम हो जाता है।
  • वॉकिंग घर से बाहर ही की जाती है जिसके कारण आपको सूरज की धूप मिलती है जो आपको जरूरी विटामिन डी (Vitamin D) मिलने में मदद करता है।
  • वॉकिंग से कई प्रकार के कैंसर (Cancer) से बचा जा सकता है, वॉकिंग की आदत से ब्रैस्ट कैंसर (Breast Cancer) और कोलोन कैंसर (Colon Cancer) होने का खतरा काफी कम हो जाता है।

वॉकिंग के लिए कैसे प्लान करें ?

  • वॉक करने के लिए एक जोड़ी अच्छे स्पोर्ट्स शूज (Sports Shoes) में इन्वेस्ट (Invest) करें और ये ध्यान रखें कि जूते आरामदायक (Comfortable) होने के साथ साथ आपके पैरों को जरूरी सुरक्षा (Protection) भी प्रदान करें।

running-shoe-371625_1280

  • अपनी वॉकिंग के लिए एक ऐसा रास्ता चुनें जहां बहुत ज्यादा ऊबड़-खाबड़ न हो साथ ही किसी प्रकार का गड्ढा न हो और जमीन फिसलन भरी न हो।
  • वॉकिंग करने से पहले थोड़ा वार्मअप (Warm up) करें जोकि 5-10 मिनट धीमे चलकर किया जा सकता है और फिर थोड़ा तेज वॉक(Brisk Walk) करें। वॉक खत्म करने से पहले अपनी गति फिर से कम करके कूल डाउन (Cool Down) करें।
  • वॉकिंग खत्म करने के बाद थोड़ा स्ट्रैच (Stretch) करें जिससे बॉडी की जकड़न कम हो जाये।
  • वॉक करने की शुरुआत में इसकी अवधि कम रखें और धीरे धीरे बढ़ाएँ जिससे बॉडी को वॉकिंग की आदत पड़ जाए, ऐसा न हो कि पहले दिन ही बहुत ज्यादा वॉक करने की वजह से आप थक जाएँ और फिर वॉकिंग न कर पाएँ।

वॉकिंग करते समय इन गलतियों से बचें :

वार्मअप (Warm up) ना करना

वॉकिंग से पहले वार्मअप (Warm up) ना करने से चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है और कई बार ये बहुत ज्यादा गंभीर भी हो सकती है। वॉकिंग की आदत डालने की शुरुआत में ही किसी चोट का लगना हमको दोबारा वॉकिंग शुरू करते समय डराने लगता है जिससे हम इसे करना छोड़ देते हैं।

sport-1014064_640

सही पॉश्चर (Posture)न रखना

वॉकिंग करते समय सही पॉश्चर (Posture) बनाकर न रखने से हमको इसका पूरा लाभ नहीं मिलता बल्कि कई बार इसका नुकसान भी उठाना पड़ता है। इसलिए जरूरी है कि सही पॉश्चर में वॉक की जाये, नीचे देखने की जगह सामने देखते हुए वॉक करनी चाहिए। कंधे, गर्दन और कमर रिलैक्स (Relax) रखें और कमर को सीधा रखें। हाथ आगे पीछे जाने के लिए ढीले छोड़ें और पेट की मसल्स (Muscles) थोड़ा टाइट (Tight) रखें।

walking-1305111_640

थकान को अनदेखा करना

कई बार हम जोश में थकान को अनदेखा कर देते हैं। यदि किसी दिन थकान महसूस हो तो उस दिन वॉकिंग को आराम से कर सकते हैं या फिर ब्रेक (Break) ले सकते हैं। यदि हम थकान में भी जबर्दस्ती किसी भी प्रकार का शारीरिक व्यायाम (Physical Exercise) करते हैं तो इससे हमको चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है। अधिक थकान हो जाने पर हमको वॉकिंग (Walking) से लंबा ब्रेक भी लेना पड़ सकता है और ऐसा आप हरगिज़ नहीं चाहेंगे।

पानी सही प्रकार से ना पीना

water-830374_640

वॉकिंग शुरू करने से पहले थोड़ा पानी पी लेना चाहिए और वॉकिंग के दौरान यदि प्यास लगे तो एकदम से बहुत ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए बल्कि थोड़ा थोड़ा सिप (Sip) करते हुए पानी पी सकते हैं। यदि प्यास लगने पर भी आप पानी नहीं पीयेंगे तो माशपेशियों में  खिंचाव हो सकता है या फिर मोच (Sprain) आ सकती है। वॉकिंग के तुरंत बाद भी पानी केवल थोड़ी मात्रा में सिप करके पीना चाहिए वरना पेट में दर्द हो सकता है।

                 फिर आप किस बात का इंतज़ार कर रहे हैं, आप भी वॉकिंग के फायदे उठाने के लिए वॉकिंग शुरू कीजिये पर ऊपर बतायी गयी गलतियों से बचते हुए।

 

7 thoughts on “वॉक करें, स्वस्थ रहें ! Walk for Health !”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *